Corona figures start scaring again, deteriorating situation in Delhi-Maharashtra | Coronavirus in India: फिर डराने लगे कोरोना के आंकड़े, दिल्ली-महाराष्ट्र में बिगड़े हालात, 18 राज्यों में कोरोना वायरस वैरिएंट के 771 केस मिले – NOFAA

Corona figures start scaring again, deteriorating situation in Delhi-Maharashtra | Coronavirus in India: फिर डराने लगे कोरोना के आंकड़े, दिल्ली-महाराष्ट्र में बिगड़े हालात, 18 राज्यों में कोरोना वायरस वैरिएंट के 771 केस मिले


डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश में कोरोना का कहर लगातार जारी है। वहीं इसकी दूसरी लहर का खौफ बढ़ता जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार बीते 24 घंटे में 47 हजार 262 मामले आए हैं, इनमें से सबसे अधिक सक्रिय मामले देश के 10 जिलों से आएं हैं। यह आंकड़ा पिछले 132 दिनों में सबसे ज्यादा है। इस दौरान 23,913 ठीक हुए और 277 की मौत हो गई। वहीं, कोरोना वायरस के सबसे अधिक सक्रिय मामले 10 जिलों में केंद्रित हैं, ये जिले हैं- पुणे, नागपुर, मुंबई, ठाणे, नासिक,औरंगाबाद, बंगलूरू अर्बन, नांदेड, जलगांव, अकोला। जिन 10 जिलों में सक्रिय मामले केंद्रित हैं उनमें से 9 जिले महाराष्ट्र और एक जिला कर्नाटक का है।

18 राज्यों में कोरोना वायरस वैरिएंट के 771 केस मिले
राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (NCDC) के डायरेक्टर डॉ. एसके सिंह ने बताया कि देश के 18 राज्यों में कोरोनो वायरस वैरिएंट के 771 मामलों का पता चला है। इनमें ब्रिटेन के 736, दक्षिण अफ्रीका के 34 और ब्राजील वैरिएंट के 1 केस सामने आए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बताया कि इस बात का कोई ठोस प्रमाण नहीं है कि देश में बढ़ रहे संक्रमण के लिए कोरोना के विदेशी वैरिएंट जिम्मेदार हैं।

वहीं, हेल्थ मिनिस्ट्री ने तेलंगाना, चंडीगढ़, नगालैंड और पंजाब में हेल्थ वर्कर्स के कम वैक्सीनेशन पर चिंता जताई है। विभाग ने ये भी बताया कि 1 अप्रैल से 45 वर्ष और उससे अधिक आयु वालों के टीकाकरण के लिए वैक्सीन की पर्याप्त आपूर्ति की जा रही है। इसमें किसी भी प्रकार की कमी नहीं है। अब तक 2 करोड़ 64 लाख 52 हजार से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। भूषण ने महाराष्ट्र और पंजाब में संक्रमण के बढ़ते मामलों को लेकर चिंता जाहिर की।

दिल्लीः मार्च में 3,500 एक्टिव मरीज बढ़े
दिल्ली में पिछले 24 घंटे में 1,254 नए मामले सामने आए। इस तरह से दिल्ली में अब तक कुल 6,51,227 मामले दर्ज हो चुके हैं। इस दौरान दिल्ली में 769 मरीज ठीक भी हुए। अब तक कुल 6,35,364 मरीज ठीक हो चुके हैं। पिछले 24 घंटे में 6 मरीजों की मौत हो गई। अब तक यहां पर 10,973 मरीजों की मौत हो चुकी है। राजधानी में अभी 4,890 एक्टिव केस है। दिल्ली सिर्फ मार्च महीने में करीब 3,500 एक्टिव मरीज बढ़े हैं। 1 मार्च को दिल्ली के अस्पतालों में मरीजों की संख्या 489 थी। दिल्ली के अस्पतालों में भर्ती मरीजों की संख्या ने 1,000 का आंकड़ा पार कर लिया है। राजधानी में अभी में मरीजों की संख्या बढ़कर 1,063 हो गई है।

महाराष्ट्र और पंजाब में स्थिति गंभीर
अब बात महाराष्ट्र की करें तो यहां स्थिति अभी भी भयावह बनी हुई है। महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में 31,855 नए मामले दर्ज किए गए हैं। हालांकि इस दौरान 15,098 मरीज डिस्चार्ज भी हुए। राज्य में अब तक 22,62,593 मरीज डिस्चार्ज हो चुके हैं। राज्य में 15 हजार से ज्यादा मरीजों के डिस्चार्ज होने के साथ ही रिकवरी रेट बढ़कर 88.21% हो गई है। हालांकि इस दौरान 95 मरीजों की मौत हो गई। कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए सैंपल टेस्ट भी बढ़ा दिए गए हैं। महाराष्ट्र में अब तक 1,87,25,307  सैंपल टेस्ट लिए जा चुके हैं। जिसमें 25,64,881 लोग पॉजिटिव पाए गए। 12,68,094 मरीज होम क्वारनटीन हैं जबकि 13,499 मरीज संस्थागत क्वारनटीन हैं। राज्य में अभी 2,47,299 एक्टिव केस हैं।

वहीं पंजाब में मंगलवार को 2,254 नए मरीज मिले। 1,426 ठीक हुए, जबकि 53 की मौत हुई। राज्य में अब तक 2.17 लाख लोग इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं। इनमें से 1.9 लाख ठीक हुए हैं, जबकि 6,435 की मौत हुई है। यहां ब्रिटेन वाले कोरोना वैरिएंट के तेजी से फैलने की खबर है। जीनाेम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए 401 सैम्पलों में 81% में ब्रिटेन में पाए गए कोरोना वैरिएंट की पुष्टि हुई है।

88 फीसदी मौतें 45 वर्ष एवं उससे ऊपर के लोगों की
सरकार ने फैसला लिया कि एक अप्रैल से 45 वर्ष से अधिक उम्र के नागरिक वैक्सीन लगवा सकते हैं। ये फैसला इसलिए लिया गया क्योंकि हमारे देश में कोरोना वायरस की कुल मौतों की 88 फीसदी मौतें 45 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों की हैं।


Source link

Leave a Comment