Amar Ujala Abhiyan Education Health Habit Of Wearing Masks Among Students Following The Rules – अमर उजाला शिक्षा अभियान : विद्यार्थियों में लगी मास्क पहनने की आदत, नियमों का कर रहे पालन – NOFAA

Amar Ujala Abhiyan Education Health Habit Of Wearing Masks Among Students Following The Rules – अमर उजाला शिक्षा अभियान : विद्यार्थियों में लगी मास्क पहनने की आदत, नियमों का कर रहे पालन

[ad_1]

ओम सेठी, नोएडा 
Published by: सुशील कुमार
Updated Sun, 27 Mar 2022 12:22 PM IST

सार

महामारी ने ऑनलाइन शिक्षा को बढ़ावा तो दिया, लेकिन स्कूलों में होने वाली विभिन्न गतिविधियों जैसे सांस्कृतिक आयोजन, खेलकूद और रंगारंग कार्यक्रम आदि पर रोक सी लग गई थी। अब यह सब फिर से होने लगे हैं।

ख़बर सुनें

महीनों बाद खुले स्कूलों में विद्यार्थियों की वापसी हुई है। इतने लंबे समय के बाद स्कूल आने पर विद्यार्थियों में मास्क पहनने की आदत बन गई है। पहले जहां बिना मास्क और सैनिटाइजर के स्कूल जाते थे, अब मास्क पहनना बच्चों की आदत में शुमार हो गया है। स्कूलों में भी कोरोना के प्रति जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं।

महामारी ने ऑनलाइन शिक्षा को बढ़ावा तो दिया, लेकिन स्कूलों में होने वाली विभिन्न गतिविधियों जैसे सांस्कृतिक आयोजन, खेलकूद और रंगारंग कार्यक्रम आदि पर रोक सी लग गई थी। अब यह सब फिर से होने लगे हैं। मिलेनियम स्कूल की प्रधानाचार्य सविता चड्ढा ने बताया कि स्कूल में कोरोना नियमों का कड़ी से पालन किया जा रहा है। शिक्षक-शिक्षिकाएं भी मास्क लगाकर बच्चों को पढ़ा रहे हैं। 

बच्चों के साथ कर्मचारी भी मास्क लगाकर आ रहे हैं। स्कूल में सैनिटाइजर की भी व्यवस्था की गई है। कोरोना ने पढ़ाई का दौर बदल दिया है। उन्होंने बताया कि बच्चों में अच्छी आदतें बचपन से ही डालनी चाहिए। मास्क न केवल कोरोना से बचाएगा, बल्कि प्रदूषण और कई तरीके के अन्य केमिकल और अन्य संक्रमण से भी सुरक्षित रखेगा। अभिभावकों को बच्चों में मास्क लगाने की आदत डालनी चाहिए। 

कोरोना नियमों का पालन कर ही विद्यार्थियों को स्कूल बुलाया जा रहा है। बच्चे भी नियमों का पालन भी कर रहे हैं। विद्यार्थियों में मास्क लगाने की नई आदत बन रही है। – स्मिता मिश्रा, प्रधानाचार्य, कार्ल हूबर स्कूल

मास्क जरूरी है। स्कूल हर बच्चे को मास्क लगाकर जाना चाहिए। संक्रमण से बचाव के लिए मास्क पहनना सबसे महत्वपूर्ण उपायों में एक है। – मीरा कुमारी, अभिभावक

सोचा नहीं था कि मास्क लगाकर स्कूल जाना पड़ेगा। कोरोना ने काफी कुछ बदला है। नई आदतें डाली हैं। सैनिटाइजर और मास्क कोरोना से बचाव में सहायक हो सकते हैं। – उदयमन, छात्र, 12वीं कक्षा

विस्तार

महीनों बाद खुले स्कूलों में विद्यार्थियों की वापसी हुई है। इतने लंबे समय के बाद स्कूल आने पर विद्यार्थियों में मास्क पहनने की आदत बन गई है। पहले जहां बिना मास्क और सैनिटाइजर के स्कूल जाते थे, अब मास्क पहनना बच्चों की आदत में शुमार हो गया है। स्कूलों में भी कोरोना के प्रति जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं।

महामारी ने ऑनलाइन शिक्षा को बढ़ावा तो दिया, लेकिन स्कूलों में होने वाली विभिन्न गतिविधियों जैसे सांस्कृतिक आयोजन, खेलकूद और रंगारंग कार्यक्रम आदि पर रोक सी लग गई थी। अब यह सब फिर से होने लगे हैं। मिलेनियम स्कूल की प्रधानाचार्य सविता चड्ढा ने बताया कि स्कूल में कोरोना नियमों का कड़ी से पालन किया जा रहा है। शिक्षक-शिक्षिकाएं भी मास्क लगाकर बच्चों को पढ़ा रहे हैं। 

बच्चों के साथ कर्मचारी भी मास्क लगाकर आ रहे हैं। स्कूल में सैनिटाइजर की भी व्यवस्था की गई है। कोरोना ने पढ़ाई का दौर बदल दिया है। उन्होंने बताया कि बच्चों में अच्छी आदतें बचपन से ही डालनी चाहिए। मास्क न केवल कोरोना से बचाएगा, बल्कि प्रदूषण और कई तरीके के अन्य केमिकल और अन्य संक्रमण से भी सुरक्षित रखेगा। अभिभावकों को बच्चों में मास्क लगाने की आदत डालनी चाहिए। 

कोरोना नियमों का पालन कर ही विद्यार्थियों को स्कूल बुलाया जा रहा है। बच्चे भी नियमों का पालन भी कर रहे हैं। विद्यार्थियों में मास्क लगाने की नई आदत बन रही है। – स्मिता मिश्रा, प्रधानाचार्य, कार्ल हूबर स्कूल

मास्क जरूरी है। स्कूल हर बच्चे को मास्क लगाकर जाना चाहिए। संक्रमण से बचाव के लिए मास्क पहनना सबसे महत्वपूर्ण उपायों में एक है। – मीरा कुमारी, अभिभावक

सोचा नहीं था कि मास्क लगाकर स्कूल जाना पड़ेगा। कोरोना ने काफी कुछ बदला है। नई आदतें डाली हैं। सैनिटाइजर और मास्क कोरोना से बचाव में सहायक हो सकते हैं। – उदयमन, छात्र, 12वीं कक्षा

[ad_2]
Source link

Leave a Comment