Four Caught In Black Marketing Of Oxygen Cylinders, Masks – ऑक्सीजन सिलिंडर, मास्क की कालाबाजारी में चार दबोचे – NOFAA

Four Caught In Black Marketing Of Oxygen Cylinders, Masks – ऑक्सीजन सिलिंडर, मास्क की कालाबाजारी में चार दबोचे

ख़बर सुनें

नोएडा। कोविड-19 मेडिकल इमरजेंसी के इस दौर में ऑक्सीजन सिलिंडर, मास्क व रेगुलेटर की कालाबाजारी करने वाले एक गिरोह का कोतवाली फेज-3 पुलिस ने पर्दाफाश कर चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने चारों आरोपियों को बुधवार को कोर्ट में पेश किया जहां से सभी को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।
कोतवाली फेज-3 के प्रभारी निरीक्षक जितेंद्र दीखित ने बताया कि पुलिस ने सूचना के आधार पर मंगलवार को एफएनजी रोड पर गढ़ी गोल चक्कर के पास से चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। इनकी पहचान औरैया निवासी हिमांशु शुक्ला, खोड़ा कॉलोनी निवासी वसीम अल्वी, शाहबेरी निवासी सोहेब और खजूरी दिल्ली निवासी आदित्य मूंग दल के रूप में हुई है।
पुलिस ने आरोपियों के पास से एक ऑक्सीजन सिलिंडर, ऑक्सीजन मास्क, ऑक्सीजन रेगुलेटर, 5 मोबाइल और दो कारें बरामद हैं। सोहेब और वसीम गाजियाबाद और एनसीआर के अन्य शहरों में मेडिकल पेशे से जुड़े हुए हैं। जब कोविड-19 की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की मांग बढ़ी तो इन दोनों ने अन्य दो साथियों के साथ मिलकर गिरोह बना लिया और ऑक्सीजन सिलिंडर व अन्य उपकरणों की कालाबाजारी शुरू कर दी। यह लोग पहले से मेडिकल के काम से जुड़े हुए हैं इस कारण यह डीलरों से आसानी से ऑक्सीजन सिलिंडर से लेकर अन्य उपकरण उचित कीमतों पर प्राप्त कर लेते थे। इसके बाद यह जरूरतमंदों को अधिक कीमतों पर ऑक्सीजन सिलिंडर और अन्य उपकरण देते थे। पुलिस ने इनके खिलाफ महामारी अधिनियम सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस आरोपियों के अन्य साथियों को तलाश कर रही है और पता लगा रही है कि इन लोगों ने अब तक कितने लोगों और सिलिंडर और अन्य मेडिकल उपकरणों को बेचा है।
पीएचसी में डॉक्टर और स्टाफ तैनात
प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) पर आखिरकार बुधवार को एक डॉक्टर व एक वार्ड बॉय को तैनात कर दिया गया है। अब यहां आधुनिक स्तर की जांच सुविधाएं मिलने का इंतजार भी जल्द खत्म होने की उम्मीद है। बता दें कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर लंबे समय से ताला लगा था। जिले में मुख्यमंत्री के दौर से एक दिन ताला खोला गया। क्षेत्र के लोग लगातार स्वास्थ्य केंद्र पर सुविधाएं बहाल करने की मांग कर रहे थे। इसकी शिकायत एसडीएम सदर प्रसून द्विवेदी से की गई थी। इसके बाद जिला प्रशासन के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग ने डॉक्टर पूनम यादव को तैनात किया है। अब यहां सामान्य बीमारी खांसी, जुकाम, बुखार आदि के लिए रोज सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं मिल सकेंगी।
सांसद ने दिया ऑक्सीजन सिलिंडर
नगर पंचायत की मांग पर सांसद डॉ. महेश शर्मा ने बुधवार को ऑक्सीजन सिलिंडर व मेडिसिन किट मुहैया करा दिया है। नगर पंचायत अध्यक्ष साबिर कुरैशी ने बताया कि उन्होंने सांसद को ऑक्सीजन सिलिंडर, मास्क, मेडिसिन किट, दस्ताने, थर्मल स्कैनर आदि की कमी बताते हुए पत्र भेजा था। इसके बाद सांसद ने प्रतिनिधि सोनू वर्मा द्वारा सिलिंडर समेत सारा सामान उपलब्ध करा दिया है।
डॉक्टर भाइयों ने लगाया स्वास्थ्य शिविर
दनकौर ब्लॉक के जुनैदपुर गांव निवासी सगे भाई डॉ. कुलदीप व डॉ. अमित नागर ने स्वास्थ्य कैंप लगाया। गांव के पूर्व प्रधान एवं शहीद दरियाव सिंह नागर समिति के अध्यक्ष सुनील नागर ने बताया कि महामारी में मरीज अस्पताल नहीं जा पा रहे हैं। डॉक्टर कुलदीप नागर ने बताया कि गांव में खांसी, जुकाम, बुखार जैसी बीमारी फैल रही है। करीब 200 लोगों की जांच की गई। सूरज नामक युवक घायलावस्था में आया था, उसका उपचार किया गया। शिविर में डॉ. सौरभ, डॉ. विनय गुप्ता ने भी योगदान दिया। मौके पर धीरज नागर, कुलदीप नागर, रमेश नागर, इंद्रजीत नागर, भंवर सिंह, संजय प्रधान आदि मौजूद रहे।

नोएडा। कोविड-19 मेडिकल इमरजेंसी के इस दौर में ऑक्सीजन सिलिंडर, मास्क व रेगुलेटर की कालाबाजारी करने वाले एक गिरोह का कोतवाली फेज-3 पुलिस ने पर्दाफाश कर चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने चारों आरोपियों को बुधवार को कोर्ट में पेश किया जहां से सभी को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।

कोतवाली फेज-3 के प्रभारी निरीक्षक जितेंद्र दीखित ने बताया कि पुलिस ने सूचना के आधार पर मंगलवार को एफएनजी रोड पर गढ़ी गोल चक्कर के पास से चार आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। इनकी पहचान औरैया निवासी हिमांशु शुक्ला, खोड़ा कॉलोनी निवासी वसीम अल्वी, शाहबेरी निवासी सोहेब और खजूरी दिल्ली निवासी आदित्य मूंग दल के रूप में हुई है।

पुलिस ने आरोपियों के पास से एक ऑक्सीजन सिलिंडर, ऑक्सीजन मास्क, ऑक्सीजन रेगुलेटर, 5 मोबाइल और दो कारें बरामद हैं। सोहेब और वसीम गाजियाबाद और एनसीआर के अन्य शहरों में मेडिकल पेशे से जुड़े हुए हैं। जब कोविड-19 की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की मांग बढ़ी तो इन दोनों ने अन्य दो साथियों के साथ मिलकर गिरोह बना लिया और ऑक्सीजन सिलिंडर व अन्य उपकरणों की कालाबाजारी शुरू कर दी। यह लोग पहले से मेडिकल के काम से जुड़े हुए हैं इस कारण यह डीलरों से आसानी से ऑक्सीजन सिलिंडर से लेकर अन्य उपकरण उचित कीमतों पर प्राप्त कर लेते थे। इसके बाद यह जरूरतमंदों को अधिक कीमतों पर ऑक्सीजन सिलिंडर और अन्य उपकरण देते थे। पुलिस ने इनके खिलाफ महामारी अधिनियम सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस आरोपियों के अन्य साथियों को तलाश कर रही है और पता लगा रही है कि इन लोगों ने अब तक कितने लोगों और सिलिंडर और अन्य मेडिकल उपकरणों को बेचा है।

पीएचसी में डॉक्टर और स्टाफ तैनात

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (पीएचसी) पर आखिरकार बुधवार को एक डॉक्टर व एक वार्ड बॉय को तैनात कर दिया गया है। अब यहां आधुनिक स्तर की जांच सुविधाएं मिलने का इंतजार भी जल्द खत्म होने की उम्मीद है। बता दें कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर लंबे समय से ताला लगा था। जिले में मुख्यमंत्री के दौर से एक दिन ताला खोला गया। क्षेत्र के लोग लगातार स्वास्थ्य केंद्र पर सुविधाएं बहाल करने की मांग कर रहे थे। इसकी शिकायत एसडीएम सदर प्रसून द्विवेदी से की गई थी। इसके बाद जिला प्रशासन के निर्देश पर स्वास्थ्य विभाग ने डॉक्टर पूनम यादव को तैनात किया है। अब यहां सामान्य बीमारी खांसी, जुकाम, बुखार आदि के लिए रोज सुबह 8 से दोपहर 2 बजे तक लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं मिल सकेंगी।

सांसद ने दिया ऑक्सीजन सिलिंडर

नगर पंचायत की मांग पर सांसद डॉ. महेश शर्मा ने बुधवार को ऑक्सीजन सिलिंडर व मेडिसिन किट मुहैया करा दिया है। नगर पंचायत अध्यक्ष साबिर कुरैशी ने बताया कि उन्होंने सांसद को ऑक्सीजन सिलिंडर, मास्क, मेडिसिन किट, दस्ताने, थर्मल स्कैनर आदि की कमी बताते हुए पत्र भेजा था। इसके बाद सांसद ने प्रतिनिधि सोनू वर्मा द्वारा सिलिंडर समेत सारा सामान उपलब्ध करा दिया है।

डॉक्टर भाइयों ने लगाया स्वास्थ्य शिविर

दनकौर ब्लॉक के जुनैदपुर गांव निवासी सगे भाई डॉ. कुलदीप व डॉ. अमित नागर ने स्वास्थ्य कैंप लगाया। गांव के पूर्व प्रधान एवं शहीद दरियाव सिंह नागर समिति के अध्यक्ष सुनील नागर ने बताया कि महामारी में मरीज अस्पताल नहीं जा पा रहे हैं। डॉक्टर कुलदीप नागर ने बताया कि गांव में खांसी, जुकाम, बुखार जैसी बीमारी फैल रही है। करीब 200 लोगों की जांच की गई। सूरज नामक युवक घायलावस्था में आया था, उसका उपचार किया गया। शिविर में डॉ. सौरभ, डॉ. विनय गुप्ता ने भी योगदान दिया। मौके पर धीरज नागर, कुलदीप नागर, रमेश नागर, इंद्रजीत नागर, भंवर सिंह, संजय प्रधान आदि मौजूद रहे।


Source link

Leave a Comment