Noida: कुत्ते के खतरे से बचने के लिए इस सोसाइटी के लोगों ने किया ऐसा उपाय जिसे दुसरो को करना चाहिए - Apartment News
NOFAA Update Society Halchal

Noida: कुत्ते के खतरे से बचने के लिए इस सोसाइटी के लोगों ने किया ऐसा उपाय जिसे दुसरो को करना चाहिए

कुत्ते के खतरे से बचने के लिए इस सोसाइटी के लोगों ने किया ऐसा उपाय जिसे दुसरो को करना चाहिए
कुत्ते के खतरे से बचने के लिए इस सोसाइटी के लोगों ने किया ऐसा उपाय जिसे दुसरो को करना चाहिए
Written by Roja Yadav

नोएडा: आए दिन नोएडा में कुत्तों के काटने की घटना सामने आ रही है। इस कारण डॉग लवर और अन्य लोगों के बीच विवाद बढ़ने लगा है। इस से बचने के लिए नोएडा 100 स्थित लोटस स्पेसिया के AOA कुछ उपाय किए हैं, जिस से झगड़ा खत्म हो गया है। हम बताते हैं आपको वो उपाय जो आप अपने सोसाइटी के लिए कर सकते हैं।

स्ट्रे डॉग के लिए बनाए घर
सोसाइटी में घुसते ही सात घर बनाए गए हैं, ये स्पेशल कुत्तों के लिए ही बनाया गया है। सोसाइटी के जो भी स्ट्रे डॉग है, वो सब इसी में खाते पीते है और सो भी जाते हैं। इस से आवारा घूमते हुए कुत्तों के लिए एक ठिकाना हो गया। अपार्टमैंट ऑनर एसोसिशन के महासचिव अभिनव कंसल बताते हैं कि शुरुआत में हमारे सोसाइटी में भी कुत्तों को लेकर विवाद था, लेकिन हमने उसको रोकने की कोशिश की हमने अपने सोसाइटी की डॉग लवर्स से बात किया और उपाय निकालने की कोशिश जो जो लवर्स ने हमें आइडिया दिया हमने उसे अपनाया। हमने छोटे छोटे घर बनाए ताकि कुत्तों को एक स्थान मिल सके। कुत्तों को खाना खिलाने के लिए सोसाइटी के भीतर ही स्थान बना लिया और कुछ बर्तन भी रखवा दिया। एक समय और स्थान फिक्स कर दिया, उसी समय लोग अब खाना खिलाने जाते हैं और कुत्तों को घुमाते हैं।

बात करते हुए हो विवाद का निपटारा
सोसाइटी की रहने वाली विभा चुग बताती है कि मैं एक डॉग लवर हूं, डॉग को समझने की बात होती है, हम इंसान जो कुत्ते को पाल रहें है, तो उसे समझने की जरूरत भी हमारी है, लेकिन हम नहीं करते। जैसे हमारे सोसाइटी में चर्चा करने के बाद अपार्टमेंट ऑनर एसोसिशन ने जो किया वो विवाद को खतम करने के लिए अच्छा है। हमारे यहां भी अन्य सोसाइटी की तरह कुत्तों को लेकर विवाद चल रहा था। लेकिन aoa के महासचिव अभिनव कांसल ने विवाद को मुद्दा नहीं बनाते हुए दोनो पक्षों की बात को मानते हुए बीच का रस्ता निकाला। हमने डॉग वॉकर भी लगाया जो सुबह शाम आकर कुत्तों को खाना खिलाते हैं। एक स्थान फिक्स है वहीं कुत्ते को खाना खिलाया जाता है।

About the author

Roja Yadav

You can share your society/area news & article with us at roja@apartmenttimes.in

Leave a Comment