Corona – सामाजिक और धार्मिक कार्यक्रमों पर रहेगी नजर – NOFAA

Corona – सामाजिक और धार्मिक कार्यक्रमों पर रहेगी नजर

[ad_1]

ख़बर सुनें

नूंह। जिला सचिवालय में उपायुक्त और अन्य अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस में शनिवार को सूबे के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कोरोना महामारी का प्रकोप दोबारा फैलने से रोकने के लिए प्रशासन को सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि इस संबंध में किसी भी स्तर पर लापरवाही न दिखाई दे। सरकार का प्रयास है कि लोगों के जीवन को न रोका जाए, लेकिन महामारी से बचाव के लिए मास्क, सैनिटाइजर के प्रयोग, उचित दूरी बनाए रखने तथा कोविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से अनुपालन सुनिश्चित किया जाए। विशेषकर स्कूलों, सामाजिक व धार्मिक आयोजनों पर कड़ी नजर रखी जाए।
चंडीगढ़ से जिला उपायुक्तों, पुलिस अधीक्षकों, सीएमओ के साथ कोविड वैक्सीनेशन की समीक्षा के दौरान उन्होंने कहा कि चार महीने तक नाममात्र मामले आने के बाद मार्च के प्रथम सप्ताह में फिर कोरोना के केस बढ़े हैं। पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष दवा भी है और अन्य सुविधाएं भी। कोरोना को बढ़ने से रोकने के लिए एनजीओ का भी सहयोग लिया जाए। ऐसे स्कूलों पर कड़ी नजर रखी जाए, जिनमें कोरोना पॉजिटिव केस पाए जाते हैं। उन्हें तुरंत कंटेनमेंट जोन बनाएं। कुछ ही दिन बाद होली, नवरात्र, बैसाखी के त्यौहार हैं। इन धार्मिक व सामाजिक कार्यक्रमों में भीड़ इकट्ठा न होने दें। आयोजकों को मास्क, सैनिटाइजर तथा सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के बारे में बताएं। उन्होंने कोरोना वैक्सीन के प्रति जागरूकता के लिए भी प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश दिए।
1 अप्रैल से गेहूं खरीद के करें इंतजाम
मुख्यमंत्री ने कहा कि 1 अप्रैल से गेहूं खरीद शुरू हो जाएगी। अधिकारी अपने-अपने जिलों में सभी आवश्यक प्रबंध पूरे करें। मंडियों में बारदाने व श्रमिकों की कमी न होने दें। अतिरिक्त खरीद केंद्र की जरूरत है तो बनाएं, ताकि किसानों को कोई दिक्कत न हो। मंडियों से उठान का कार्य समय पर हो। फसल किसान बेच रहा है तो पैसा भी उसके खाते में जाए, ऐसी व्यवस्था सरकार कर रही है। ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ पोर्टल पर किसान फसल का पंजीकरण अवश्य कराएं, ताकि इसे बेचने में किसी प्रकार की दिक्कत न हो। उन्होंने बताया कि प्रदेश में परिवार पहचान पत्र बनाने का काम जोरों पर है। जिन लोगों ने अब तक कार्ड नहीं बनवाए हैं, वे अवश्य बनवाएं। मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान योजना के तहत 1 लाख परिवारों का उत्थान किया जाएगा। योजना की शुरूआत 1 अप्रैल से होगी।
विज ने कहा, सख्ती जरूरी तो करें
वीसी में स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि कोविड को रोकने के लिए सख्ती की जरूरत है तो जरूर करें। उन्होंने डीसी, एसपी, सीएमओ को स्पष्ट निर्देश दिए कि अपने-अपने जिलों में मास्क के चालान बढ़ाएं और इसकी रिपोर्ट प्रत्येक दिन मुख्यालय को भेजें। उन्होंने तीन सदस्यीय कमेटी का गठन करने का भी सुझाव दिया, जिसमें उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक तथा सीएमओ का प्रतिनिधि शामिल हो। यह टीम स्कूलों, सामाजिक व धार्मिक कार्यक्रमों की चेकिंग करे।
जिले में 4 टीमों का किया गठन
वीसी में उपायुक्त धीरेंद्र खड़गटा ने बताया कि जिले में कोरोना को रोकने के लिए ड्यूटी मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में अधिकारियों की कुल 4 टीमों का गठन किया गया है। ये जिले के करीब 800 स्कूलों को एक सप्ताह में चेक करेंगी। सामाजिक व धार्मिक कार्यक्रमों के आयोजनों पर भी कड़ी नजर रखेगी। वीसी के बाद में उन्होंने पुलिस अधीक्षक नरेंद्र बिजारनियां से कहा कि प्रत्येक थाने व चौकी को मास्क चालान का रोज का लक्ष्य दिया जाए और उसकी रिपोर्ट उपायुक्त कार्यालय भेजें। उन्होंने बताया कि शहर के प्रत्येक थाना इंचार्ज को रोज मास्क न पहनने वाले 50-50 चालान तथा चौकी इंचार्ज को 20-20 चालान का लक्ष्य दिया गया है।
फोटो :

नूंह। जिला सचिवालय में उपायुक्त और अन्य अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस में शनिवार को सूबे के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कोरोना महामारी का प्रकोप दोबारा फैलने से रोकने के लिए प्रशासन को सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि इस संबंध में किसी भी स्तर पर लापरवाही न दिखाई दे। सरकार का प्रयास है कि लोगों के जीवन को न रोका जाए, लेकिन महामारी से बचाव के लिए मास्क, सैनिटाइजर के प्रयोग, उचित दूरी बनाए रखने तथा कोविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से अनुपालन सुनिश्चित किया जाए। विशेषकर स्कूलों, सामाजिक व धार्मिक आयोजनों पर कड़ी नजर रखी जाए।

चंडीगढ़ से जिला उपायुक्तों, पुलिस अधीक्षकों, सीएमओ के साथ कोविड वैक्सीनेशन की समीक्षा के दौरान उन्होंने कहा कि चार महीने तक नाममात्र मामले आने के बाद मार्च के प्रथम सप्ताह में फिर कोरोना के केस बढ़े हैं। पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष दवा भी है और अन्य सुविधाएं भी। कोरोना को बढ़ने से रोकने के लिए एनजीओ का भी सहयोग लिया जाए। ऐसे स्कूलों पर कड़ी नजर रखी जाए, जिनमें कोरोना पॉजिटिव केस पाए जाते हैं। उन्हें तुरंत कंटेनमेंट जोन बनाएं। कुछ ही दिन बाद होली, नवरात्र, बैसाखी के त्यौहार हैं। इन धार्मिक व सामाजिक कार्यक्रमों में भीड़ इकट्ठा न होने दें। आयोजकों को मास्क, सैनिटाइजर तथा सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के बारे में बताएं। उन्होंने कोरोना वैक्सीन के प्रति जागरूकता के लिए भी प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश दिए।

1 अप्रैल से गेहूं खरीद के करें इंतजाम

मुख्यमंत्री ने कहा कि 1 अप्रैल से गेहूं खरीद शुरू हो जाएगी। अधिकारी अपने-अपने जिलों में सभी आवश्यक प्रबंध पूरे करें। मंडियों में बारदाने व श्रमिकों की कमी न होने दें। अतिरिक्त खरीद केंद्र की जरूरत है तो बनाएं, ताकि किसानों को कोई दिक्कत न हो। मंडियों से उठान का कार्य समय पर हो। फसल किसान बेच रहा है तो पैसा भी उसके खाते में जाए, ऐसी व्यवस्था सरकार कर रही है। ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ पोर्टल पर किसान फसल का पंजीकरण अवश्य कराएं, ताकि इसे बेचने में किसी प्रकार की दिक्कत न हो। उन्होंने बताया कि प्रदेश में परिवार पहचान पत्र बनाने का काम जोरों पर है। जिन लोगों ने अब तक कार्ड नहीं बनवाए हैं, वे अवश्य बनवाएं। मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान योजना के तहत 1 लाख परिवारों का उत्थान किया जाएगा। योजना की शुरूआत 1 अप्रैल से होगी।

विज ने कहा, सख्ती जरूरी तो करें

वीसी में स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि कोविड को रोकने के लिए सख्ती की जरूरत है तो जरूर करें। उन्होंने डीसी, एसपी, सीएमओ को स्पष्ट निर्देश दिए कि अपने-अपने जिलों में मास्क के चालान बढ़ाएं और इसकी रिपोर्ट प्रत्येक दिन मुख्यालय को भेजें। उन्होंने तीन सदस्यीय कमेटी का गठन करने का भी सुझाव दिया, जिसमें उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक तथा सीएमओ का प्रतिनिधि शामिल हो। यह टीम स्कूलों, सामाजिक व धार्मिक कार्यक्रमों की चेकिंग करे।

जिले में 4 टीमों का किया गठन

वीसी में उपायुक्त धीरेंद्र खड़गटा ने बताया कि जिले में कोरोना को रोकने के लिए ड्यूटी मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में अधिकारियों की कुल 4 टीमों का गठन किया गया है। ये जिले के करीब 800 स्कूलों को एक सप्ताह में चेक करेंगी। सामाजिक व धार्मिक कार्यक्रमों के आयोजनों पर भी कड़ी नजर रखेगी। वीसी के बाद में उन्होंने पुलिस अधीक्षक नरेंद्र बिजारनियां से कहा कि प्रत्येक थाने व चौकी को मास्क चालान का रोज का लक्ष्य दिया जाए और उसकी रिपोर्ट उपायुक्त कार्यालय भेजें। उन्होंने बताया कि शहर के प्रत्येक थाना इंचार्ज को रोज मास्क न पहनने वाले 50-50 चालान तथा चौकी इंचार्ज को 20-20 चालान का लक्ष्य दिया गया है।

फोटो :

[ad_2]
Source link

Leave a Comment