Girl Student Dies Of Fever In Bilaspur – बिलासपुर में बुखार से छात्रा की मौत – NOFAA

Girl Student Dies Of Fever In Bilaspur – बिलासपुर में बुखार से छात्रा की मौत

[ad_1]

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

ग्रेटर नोएडा/बिलासपुर/जेवर। गांवों में बुखार से पीड़ितों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। सोमवार को भी बिलासपुर कस्बे में बुखार से 20 वर्षीय छात्रा की मौत हो गई। उसके पिता अधिवक्ता दिनेश कुमार ने बताया कि बेटी कीर्ति बीए की छात्रा थी। तीन दिन पहले उसे बुखार आया था। कस्बे में ही निजी डॉक्टर से उसका इलाज चल रहा था।
बेटी की सेहत में सुधार होने पर सोमवार को दिनेश कुमार कचहरी चले गए। सुबह 11 बजे परिजनों ने उन्हें फोन कर कीर्ति की मौत की जानकारी दी। यह सुन कर दिनेश कुमार सन्न रह गए और तुरंत कचहरी से घर लौटे। कीर्ति परसंडी देवी कॉलेज में बीए द्वितीय वर्ष की छात्रा थी। वह पढ़ाई में हमेशा अव्वल रही। दिनेश कुमार ने बताया कि बेटी को मात्र बुखार था इसके अलावा कोरोना का कोई लक्षण नहीं था। इसलिए जांच नहीं कराई। बुखार से ही बेटी की मौत हो गई। दिनेश कुमार के अनुसार उनके घर के आसपास भी कोई कोरोना का मरीज नहीं है।
गांवों में चला अभियान तो सामने आए संक्रमित
उधर, गांवों में बुखार पीड़ित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ने पर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीमें जांच अभियान चला रही हैं। सोमवार को जेवर, दादरी, दनकौर, बिसरख क्षेत्र के गांवों में जांच अभियान चलाया गया। जेवर क्षेत्र के जौनचाना, कलुपुरा, आकलपुर, म्याना, चकबीरमपुर, बीरमपुर, मुरादगढ़ी, भुन्नातगा, ख्वाजपुर, नीमका, चौरोली, थोरा, दस्तमपुर, धनसिया, बंकापुर, परोही गांव में 783 एंटीजन और 777 आरटीपीसीआर जांच की गईं। इस दौरान नौ लोग संक्रमित पाए गए। इसी तरह बिसरख के खेरी, सुनपुरा, गिरधरपुर, सादुल्लापुर, रोजा जलालपुर गांवों में जांच अभियान चलाया गया। लैब टेक्नीशियन अरविंद कुमार ने बताया कि खेरी में 56 लोगों की जांच में दो संक्रमित मिले। सुनपुरा में 10 लोगों की जांच में कोई भी संक्रमित नहीं मिला। उधर, बिलासपुर के राजेंद्र कॉलेज में शिविर लगाकर 125 लोगों की जांच की गई, जिसमें दो संक्रमित पाए गए। सभी संक्रमितों को होम आइसोलेट किया गया है। स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन की टीम उन पर नजर रख रही है।

ग्रेटर नोएडा/बिलासपुर/जेवर। गांवों में बुखार से पीड़ितों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। सोमवार को भी बिलासपुर कस्बे में बुखार से 20 वर्षीय छात्रा की मौत हो गई। उसके पिता अधिवक्ता दिनेश कुमार ने बताया कि बेटी कीर्ति बीए की छात्रा थी। तीन दिन पहले उसे बुखार आया था। कस्बे में ही निजी डॉक्टर से उसका इलाज चल रहा था।

बेटी की सेहत में सुधार होने पर सोमवार को दिनेश कुमार कचहरी चले गए। सुबह 11 बजे परिजनों ने उन्हें फोन कर कीर्ति की मौत की जानकारी दी। यह सुन कर दिनेश कुमार सन्न रह गए और तुरंत कचहरी से घर लौटे। कीर्ति परसंडी देवी कॉलेज में बीए द्वितीय वर्ष की छात्रा थी। वह पढ़ाई में हमेशा अव्वल रही। दिनेश कुमार ने बताया कि बेटी को मात्र बुखार था इसके अलावा कोरोना का कोई लक्षण नहीं था। इसलिए जांच नहीं कराई। बुखार से ही बेटी की मौत हो गई। दिनेश कुमार के अनुसार उनके घर के आसपास भी कोई कोरोना का मरीज नहीं है।

गांवों में चला अभियान तो सामने आए संक्रमित

उधर, गांवों में बुखार पीड़ित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ने पर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की टीमें जांच अभियान चला रही हैं। सोमवार को जेवर, दादरी, दनकौर, बिसरख क्षेत्र के गांवों में जांच अभियान चलाया गया। जेवर क्षेत्र के जौनचाना, कलुपुरा, आकलपुर, म्याना, चकबीरमपुर, बीरमपुर, मुरादगढ़ी, भुन्नातगा, ख्वाजपुर, नीमका, चौरोली, थोरा, दस्तमपुर, धनसिया, बंकापुर, परोही गांव में 783 एंटीजन और 777 आरटीपीसीआर जांच की गईं। इस दौरान नौ लोग संक्रमित पाए गए। इसी तरह बिसरख के खेरी, सुनपुरा, गिरधरपुर, सादुल्लापुर, रोजा जलालपुर गांवों में जांच अभियान चलाया गया। लैब टेक्नीशियन अरविंद कुमार ने बताया कि खेरी में 56 लोगों की जांच में दो संक्रमित मिले। सुनपुरा में 10 लोगों की जांच में कोई भी संक्रमित नहीं मिला। उधर, बिलासपुर के राजेंद्र कॉलेज में शिविर लगाकर 125 लोगों की जांच की गई, जिसमें दो संक्रमित पाए गए। सभी संक्रमितों को होम आइसोलेट किया गया है। स्वास्थ्य विभाग व जिला प्रशासन की टीम उन पर नजर रख रही है।

[ad_2]
Source link

Leave a Comment