Investigation Started In The Case Of Elderly Death, Wife And Son Admitted – बुजुर्ग की मौत के मामले में जांच शुरू, पत्नी-बेटा भर्ती – NOFAA

Investigation Started In The Case Of Elderly Death, Wife And Son Admitted – बुजुर्ग की मौत के मामले में जांच शुरू, पत्नी-बेटा भर्ती

[ad_1]

ख़बर सुनें

नोएडा। सेक्टर-74 आम्रपाली सिलिकॉन में कोरोना से जान गंवाने वाले बुजुर्ग की मौत मामले में जांच शुरू हो गई है। पीड़ित परिवार के 6 सदस्य कोरोना से पीड़ित हैं। मंगलवार सुबह बुजुर्ग के बेटे और पत्नी को इलाज के लिए शारदा अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सोमवार को होम आइसोलेशन में बुजुर्ग की मौत हो गई थी।
परिवार का आरोप है कि विभिन्न हेल्पलाइन पर कॉल करने के बाद भी इलाज की कोई सुविधा नहीं मिली थी। साथ ही, मौत के करीब 9 घंटे तक अंतिम संस्कार के लिए कोई मदद नहीं मिली थी। मामले में होम आइसोलेशन का सुझाव देने वाले निजी अस्पताल में कार्यरत डॉक्टर के खिलाफ जांच बैठाई गई है। परिजनों का कहना है कि बुजुर्ग को अस्पताल में भर्ती कराने के लिए कंट्रोल रूम, एंबुलेंस और स्वास्थ्य विभाग से संपर्क किया गया तो बेड खाली न होने की बात कहकर मदद से मना कर दिया गया था।
दोपहर डेढ़ बजे बुजुर्ग की घर पर ही मौत हो गई। जब परिजनों ने अंतिम संस्कार के लिए कंट्रोल रूम और अन्य विभागों से मदद मांगी तो भी कोई सहायता नहीं मिली थी। परिजनों को रात में कहा गया कि अब अंतिम संस्कार नहीं हो सकता है, कल होगा। कहीं से मदद नहीं मिलने पर बेटे ने पिता के शव के पास बैठकर 36 सेकेंड का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया। वीडियो वायरल होने के बाद स्वास्थ्य विभाग व प्रशासन हरकत में आया। रात 10 बजे के बाद सेक्टर-94 स्थित अंतिम निवास में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बुजुर्ग का कोविड की गाइडलाइन के तहत अंतिम संस्कार कर दिया।

नोएडा। सेक्टर-74 आम्रपाली सिलिकॉन में कोरोना से जान गंवाने वाले बुजुर्ग की मौत मामले में जांच शुरू हो गई है। पीड़ित परिवार के 6 सदस्य कोरोना से पीड़ित हैं। मंगलवार सुबह बुजुर्ग के बेटे और पत्नी को इलाज के लिए शारदा अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सोमवार को होम आइसोलेशन में बुजुर्ग की मौत हो गई थी।

परिवार का आरोप है कि विभिन्न हेल्पलाइन पर कॉल करने के बाद भी इलाज की कोई सुविधा नहीं मिली थी। साथ ही, मौत के करीब 9 घंटे तक अंतिम संस्कार के लिए कोई मदद नहीं मिली थी। मामले में होम आइसोलेशन का सुझाव देने वाले निजी अस्पताल में कार्यरत डॉक्टर के खिलाफ जांच बैठाई गई है। परिजनों का कहना है कि बुजुर्ग को अस्पताल में भर्ती कराने के लिए कंट्रोल रूम, एंबुलेंस और स्वास्थ्य विभाग से संपर्क किया गया तो बेड खाली न होने की बात कहकर मदद से मना कर दिया गया था।

दोपहर डेढ़ बजे बुजुर्ग की घर पर ही मौत हो गई। जब परिजनों ने अंतिम संस्कार के लिए कंट्रोल रूम और अन्य विभागों से मदद मांगी तो भी कोई सहायता नहीं मिली थी। परिजनों को रात में कहा गया कि अब अंतिम संस्कार नहीं हो सकता है, कल होगा। कहीं से मदद नहीं मिलने पर बेटे ने पिता के शव के पास बैठकर 36 सेकेंड का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर शेयर कर दिया। वीडियो वायरल होने के बाद स्वास्थ्य विभाग व प्रशासन हरकत में आया। रात 10 बजे के बाद सेक्टर-94 स्थित अंतिम निवास में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बुजुर्ग का कोविड की गाइडलाइन के तहत अंतिम संस्कार कर दिया।

[ad_2]
Source link

Leave a Comment